Category Archives: Press Releases

डॉक्‍टर राजकुमारी बंसल के समर्थन में प्रेस विज्ञप्ति

हाथरस में दलित लड़की के साथ हुई बलात्कार की घटना व उसकी जघन्य हत्या के बाद, पीड़ित परिवार के साथ डॉक्टर राजकुमारी बंसल जिस निर्भीकता और साहस के साथ खड़ी हुईं उन पर देश भर की मीडिया ने जिस तरह की फर्ज़ी और झूठी खबरें चलाईं उसके विरोध में हम सभी सामाजिक कार्यकर्ता, प्रोफेशनल व तमाम संगठन, जो जातिगत और यौनिक हिंसा का विरोध करते हैं, डॉ. राजकुमारी बंसल के समर्थन में एकजुट हैं। उनकी निर्भीकता व मानवीय प्रयास के लिए हम उन्हें सलाम करते हैं।

Continue reading

Press Release in Support of Dr. Rajkumari Bansal

Press Release in Support of Dr. Rajkumari Bansal

As activists, professionals and organisations working to fight against sexual and caste violence, we strongly condemn the fake and malicious news that is being broadcast about Dr. Rajkumari Bansal and her courageous support to the family of the victim in the recent case of rape and murder in Hathras by the various media houses in our country. We also collectively salute her courage and commitment to fight against oppression and injustice.

Continue reading

Press Release on WSS Fact Finding Visit To Western UP In The Aftermath Of The Anti-CAA Protests

Press Release February 6th 2020

40 Days On: Aftermath and the On-going Struggles in Uttar Pradesh

A five member team from Women Against Sexual Violence and State Repression (WSS) conducted a fact finding visit in four districts of Western Uttar Pradesh – Meerut, Muzaffarnagar, Shamli and Bijnor, on 1st and 2nd of February 2020 to document the situation 40 days after the incidents of alleged police brutalities, which occurred on December 18th, 19th and 20th 2019 in light of protests against the Citizenship Amendment Act (CAA). The team met the people who have lost their family members to police firing and also those who were arrested and/or detained in the days following the incidents. Continue reading

WSS Fact Finding On The Updating Of The NRC In Assam

PRESS STATEMENT
FACT-FINDING ON THE UPDATING OF THE NRC IN ASSAM

“Sab keh rahe hain Bangladeshi ko hatana chahiye. Koi ye nahi bole ki ‘koi bhi genuine Indian ka naam nahi hatna chahiye’’ 

Between the 5th and 10th of November 2019, a nine person team of members of Women against Sexual Violence and State repression visited the state of Assam in order to understand the implications of updating the National Register of Citizens (NRC), particularly for the most marginalised people of Assam. The team travelled to the Barak Valley region, home to several Bengali Hindus and Bengali Muslims, to the Char and Chapori villages (the river islands and villages on the banks of the Brahmaputra), home to some of the most vulnerable groups of people – largely the landless Miyah Muslim peasants. The team also visited villages in the districts of Jorhat, Sivasagar and Hojai, home to those who fled erstwhile East Pakistan in 1964 and tea plantations on which migrant workers from Jharkhand and the Chhota Nagpur plateau toil. The team met with workers, peasants, activists, academics and members of civil society in all of these regions.

Continue reading

ज़ुल्म, ज़ख्म, आज़ादी… कश्मीरी औरतों की आवाज़ें : प्रेस विज्ञप्ति

4 अक्टूबर 2019

प्रेस विज्ञप्ति

ज़ुल्म, ज़ख्म, आज़ादीकश्मीरी औरतों की आवाज़ें

कश्मीर घाटी में बंदी का आज 60वां दिन है।

यौन हिंसा व राजकीय दमन के खिलाफ महिलाएं (WSS) की चार सदस्यीय टीम (किरण शाहीन, नंदिनी राव, प्रमोदिनी प्रधान, शिवानी तनेजा) ने 23 से 28 सितंबर 2019 तक कश्मीर घाटी का दौरा किया। इस दौरे का मकसद भारत सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने के बाद से लोगों, खासकर औरतों व बच्चों, के साथ बातचीत करना, उनकी आवाज़ सुनना और मौजूदा परिस्थितियों को समझना था।

टीम ने श्रीनगर, दक्षिण में शोपियां और उत्तर में कुपवाड़ा व बारामूला ज़िलों की यात्रा की। हम विभिन्न क्षेत्रों के लोगों से बात कर पाए – अपनेअपने घरों में कैद बूढ़ी और युवा औरतों, स्कूल शिक्षकों, अस्पताल के अधिकारियों, फेरीवालों, सड़क किनारे के विक्रेताओं, दुकानदारों, बाग मालिकों, कबाड़ियों, टैक्सी ड्राइवरों, ऑटो चालकों, वकीलों पत्रकारों, एक्टिविस्‍टों और स्कूल व कॉलेज के छात्रों से। हमने गांवों व मुहल्लों के साथसाथ स्कूलों, अदालतों और अस्पतालों का दौरा भी किया। यात्राएं बिना किसी योजना के की गईं और किसी के द्वारा निर्देशित नहीं थीं। हमारा मानना है कि हमारे द्वारा साझा किए गए विचार पूरी तरह से स्वतंत्र हैं। Continue reading